Saturday, June 21, 2008

वाम पंथी और न्यूक्लियर डील..


वाम पंथी वाम पंथी
सडक रेल सब जाम पंथी
सुबह को ये हैं शाम पंथी
अजगर करे चाकरी
पंछी करे काम
बाबा मार्क्स कह गये
सबको लाल सलाम!!

मत चूको चौहान
जोड सरकार बनाओ
मेवा और मलाई खाओ
फिर माईक ले कर चिल्लाओ
वह सरकार निकम्मी है
हम जिसके साथी हैं
सच सफेद हाँथी
अब दुर्लभ नहीं रहे हैं
कामरेड हो गये हैं।

बंद करो यह शोर शराबा
न्यूज चैनलों भूत दिखाओ
गीदड भभकी में इतने मसाले
दीवाली मना रहे दीवाले!!
अमरीका से न्यूकलीयर डील हो
और सरकार गिर जायेगी
तो मुफ्त के चूहे चील कैसे खायेगी?
घूरे के जब जब दिन फिरते हैं
गाल बजा लेते हैं
राम भरोसे सरकार चलती है
ये पूवे पका लेते हैं।

*** राजीव रंजन प्रसाद

7 comments:

अरुण said...

लाल सलाम वाले आपका पता पूछ रहे है ,शाम को रैली निकालेगे , दे दू क्या :)

संजीव कुमार सिन्हा said...

देशद्रोहियों की जमकर खबर ली है आपने। आपके ही जैसे निर्भीक और सत्‍याग्रही लेखक की जरूरत है समाज को।

महेंद्र मिश्रा said...

वाम पंथी
जाम पंथी
शाम पंथी
अजगर करे न चाकरी
पंछी करे न काम
बाबा मार्क्स कह गये
लाल सलाम!!
kya baat hai badhai

नीरज गोस्वामी said...

राजीव जी
आप का ये अंदाज़ बहुत भाया हमें...बहुत सही फटकार लगायी है आपने. वाह.
नीरज

नीरज गोस्वामी said...

राजीव जी
आप का ये अंदाज़ बहुत भाया हमें...बहुत सही फटकार लगायी है आपने. वाह.
नीरज

mehek said...

:):)bahut hi mast,wah kya baat kahi gazab .

Anonymous said...

क्या खूब लिखा है चिरकुट चालीसा, ऐसे चिरकुट चिंतको की देश में कमी नहीं है।