Friday, July 21, 2017

स्त्री प्रशासक नाग राजकुमारी मासकदेवी (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 33)


बस्तर को समझने के विमर्श में आम तौर पर लोग मासकदेवी को लांघ कर निकल जाते हैं; संभवत: इसी लिये इस महत्वपूर्ण स्त्रीविमर्श के अर्थ से अबूझ रहते हैं। दंतेवाड़ा में छिंदक  नाग वंशीय शासकों से सम्बंधित एक शिलालेख मिलता है जो कि तत्कालीन राजा की बहन मासक देवी के नाम से जारी किया गया है। शिलालेख का समय अज्ञात है किंतु उसमें सर्व-साधारण को यह सूचित किया गया है कि – “राज्य अधिकारी कर उगाहने में कृषक जनता को कष्ट पहुँचाते हैं। अनीयमित रूप से कर वसूलते हैं। अतएव प्रजा के हितचिंतन की दृष्टि से पाँच महासभाओं और किसानों के प्रतिनिधियों ने मिल कर यह नियम बना दिया है कि राज्याभिषेक के अवसर पर जिन गाँवों से कर वसूल किया जाता है, उनमें ही एसे नागरिकों से वसूली की जाये, जो गाँव में अधिक समय से रहते आये हों”। इस अभिलेख के कुछ शब्दों पर ठहरना होगा वे हैं – महासभा, किसानों के प्रतिनिधि तथा कर। संभवत: यह महासभा पंचायतों का समूह रही होंगी जिनके बीच बैठ कर मासकदेवी ने समस्याओं को सुना, किसानों ने गाँव गाँव से वहाँ पहुँच कर अपना दुखदर्द बाँटा होगा। इस सभा को शासन द्वारा नितिगत निर्णय लेने की स्वतंत्रता दी गयी होगी जिस आधार पर मासकदेवी ने अपनी अध्यक्षता में ग्रामीणों और किसानों की बातों को सुन कर न केवल समुचित निर्णय लिया अपितु शिलालेख बद्ध भी कर दिया। शिलालेख का अंतिम वाक्य मासकदेवीको मिले अधिकारों की व्याख्या करता है जिसमे लिखा है - ‘जो इस नियम का पालन नहीं करेंगे वे चक्रकोट के शासक और मासकदेवी के विद्रोही समझे जायेंगे’।

मासकदेवी एक उदाहरण है जिनको केन्द्र में रख कर प्राचीन बस्तर के स्त्री-विमर्श और शासकों व शासितों के अंतर्सम्बन्धों पर विवेचना संभव है। यह जानकारी तो मिलती ही है कि लगान वसूल करने में बहुत सी अनीयमिततायें थी। साथ ही सुखद अहसास होता है कि तत्कालीन प्रजा के पास एसी ग्रामीण संस्थायें थी जो शासन द्वारा निर्मित समीतियों से भी सीधे जुड़ी थी। प्रतिपादन की निरंकुशता पर लगाम लगाने का कार्य महासभाओं में होता था तथा नाग युग यह उदाहरण भी प्रस्तुत करता है कि अवसर दिये जाने पर स्त्री हर युग में एक बेहतर प्रशासक सिद्ध हुई है।

- राजीव रंजन प्रसाद

============ 

Thursday, July 20, 2017

गुरु घासीदास, दंतेश्वरी मंदिर और नरबलि (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 32)


छत्तीसगढ रज्य गुरु घासीदास का कृतज्ञ है जिन्होंने यहाँ की मिट्टी को अपनी उपस्थिति तथा ज्ञान से पवित्र किया था। गुरू घासीदास का जन्म 18 दिसम्बर 1756 को रायपुर जिले के गिरौदपुरी ग्राम में एक साधारण परिवार में हुआ था। संत गुरु घासीदास ने समाज में व्याप्त असमानताओं, पशुबलि जैसी कुप्रथाओं का विरोध किया। हर व्यक्ति एक समान है की भावना को विस्तारित करने के लिये उन्होंने 'मनखे-मनखे एक समान' का संदेश दिया। सतनाम पंथ के ये सप्त सिद्धांत  प्रतिष्ठित हैं  - सतनाम पर विश्वास, मूर्ति पूजा का निषेध, वर्ण भेद की अमान्यता, हिंसा का विरोध, व्यसन से मुक्ति, परस्त्रीगमन की वर्जना और दोपहर में खेत न जोतना। 

यह मेरी सहज जिज्ञासा थी कि गुरु घासीदास का बस्तर पर क्या और कितना प्रभाव था। डॉ. सुभाष दत्त झा का एक आलेख पुस्तक - बस्तर: एक अध्ययन में प्रकाशित हुआ है। संदर्भ दिया गया है कि – छत्तीसगढ के प्रसिद्ध संत गुरुघासीदास के बारे में एक विवरण प्राप्त होता है जिसमें उन्हें बलि हेतु पकड़ लिया गया था परंतु रास्ते में उनकी उंगली कट गयी थी अत: अंग भंग वाली बलि न चढाने के रिवाज के कारण उन्हें छोड दिया गया (पृ 77)। जानकार मानते हैं कि गुरु घासीदास ने रियासतकाल में परम्परा की तरह दंतेश्वरी मंदिर में होने वाली नर-बलि को रोकने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। दंतेश्वरी मंदिर तथा यहाँ होने वाली कथित नरबलि की सैंकडों कहानियाँ जनश्रुतियों में तथा तत्समय के सरकारी दस्तावेजों में दर्ज हैं।  यद्यपि अंग्रेज जांच कमीटियों के कई दौर के बाद भी यह सिद्ध नहीं कर सके थे कि दंतेश्वरी मंदिर में नरबलि दी जाती है। गुरु घासीदास के सम्बन्ध में यह संदर्भ इसलिये रुचिकर तथा प्रमाणपूर्ण लगता है क्योंकि अपनी शिक्षाओं में भी वे बलि प्रथा और अन्य नृशंसताओं के विरोध में खडे दिखते हैं।   

- राजीव रंजन प्रसाद

============

Tuesday, July 18, 2017

राजा पर मुकदमा (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 31)


डलहौजी ने वर्ष 1854 में नागपुर राज्य को दत्तक निषेध नीति के तहत हड़प लिया, इसके साथ ही बस्तर शासन अंग्रेजों के सीधे नियंत्रण में आ गया। ब्रिटिश सरकार के दिखाने के दाँत का उल्लेख राष्ट्रीय अभिलेखागार, नई दिल्ली के 1893 के रिकॉर्ड्स में मिलता है कि प्रत्येक चीफ को स्वतंत्र विदेशी शासक माना जाता था किंतु सत्यता थी कि सम्पूर्ण भारत में कोई भी चीफ (राज्यों के शासक/राजा) प्रभुता सम्पन्न नहीं रह गये थे। बस्तर रियासत उन दिनों मध्यप्रांत के पंद्रह फ्यूडेटरी चीफ क्षेत्रों (रियासतों) में सबसे बड़ी थी जिसके अंतर्गत 13072 वर्ग मील का क्षेत्रफल आता था। फ्यूडेटरी चीफ का स्तर पाये बस्तर के राजा को रेजीडेण्ट, दीवान, एडमिनिस्ट्रेटर, सुप्रिंटेंडेंट पॉलिटिकल एजेंट तथा वायसराय की सहायता से शासन चलाना होता था। 

बस्तर के प्रशासन पर अंग्रेजों के शिकंजे का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि राजा को अपने राज्य की सीमा के भीतर खनन की अनुमति देने, दो वर्ष से अधिक की सजा देने अथवा पचास रुपयों से अधिक का जुर्माना लगाने के लिये भी ब्रिटिश अधिकारियों से अनुमति लेनी होती थी। इतना ही नहीं राजा को उसकी प्रजा के समक्ष अधिकार विहीन दिखाने अथवा अशक्त सिद्ध करने का कोई अवसर अंग्रेज नीतिकारों ने नहीं छोड़ा था। न्याय व्यवस्था में सुधारवाद अथवा लचीलापन लाने की आड़ में यह व्यवस्था भी बनाई गयी कि अब प्रजा भी राजा पर मुकदमें करने लगी, और इसके लिये किसी तरह की अनुमति प्राप्त करने का प्रावधान नहीं रखा गया था। यद्यपि यही कानून और तरीका अंग्रेज प्रशासकों के लिये लागू नहीं होता था। ब्रिटिश न्यायालय में आये ऐसे ही एक रोचक मुकदमें का उल्लेख मिलता है जब शेख रसूल नाम के एक व्यापारी ने बस्तर के राजा भैरम देव पर उसके दो हजार रुपये और चौदह आने का भुग्तान न करने का आरोप लगाया। यह मुकदमा राजा के पक्ष में निर्णित हुआ था।       

============

Monday, July 17, 2017

सेंट जॉर्ज ऑफ जेरुसलम (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 30)


राजा रुद्रप्रताप देव (1891 – 1921 ई.) का शासन समय अंग्रेजों के सीधे प्रभाव में था। केवल छ: वर्ष की आयु में रुद्रप्रताप देव राजा बने तथा वर्ष 1908 तक पूरी तरह उनके नाम पर चलने वाला शासन अंग्रेजों द्वारा संचालित था। उनके शासन समय में ही दो अंग्रेज अधिकारी कैप्टन एल जे फैगन (1896 – 1899 ई.) तथा कैप्टन जी डब्लू गेयर (1899 – 1903 ई.) ने बस्तर प्रशासक के रूप में कार्य किया था जिसका गहरा प्रभाव राजा पर था। शासनाधिकार प्राप्त होने के पश्चात एक प्रशासक के रूप में जगदलपुर शहर के लिये की गयी ‘स्वच्छ जल की सप्लाई व्यवस्था’ तथा ‘दलपत सागर को गहरा किये जाना’ राजा रुद्रप्रताप देव द्वारा किये गये प्रमुख कार्यों में गिना जायेगा। राज्य का पहला पुस्तकालय भी रुद्रप्रताप देव की पहल से ही अस्तित्व में आया। राजा ने बस्तर प्रिंटिंग प्रेस तो सन 1905 में ही आरंभ करवाया था। कोरबा में बिजली उत्पादन आरंभ होने के बाद सन 1916 में राज्य की राजधानी प्रकाशित हो उठी। रुद्रप्रताप रंगमंच के शौकीन थे तथा 1914 में उन्होंने एक रामलीला मंडली की भी स्थापना की थी।

1914 में विश्वयुद्ध छिड़ गया। राजा रुद्रप्रताप (1891 – 1921 ई.) ने इस समय ब्रिटिश हुकूमत में अपना समर्थन जताया। अपनी ओर से सहायता के लिये बस्तर में काष्ठ से निर्मित बोट एम्बुलेंस ब्रिटिश सेना की सहायता के लिये भेजी गयी थी।  मोटर चालित इस तरह की बोट एम्बुलेंस का नाम “दि बस्तर” रखा गया था। 1918 में विश्वयुद्ध की समाप्ति के बाद ब्रिटिश सरकार ने राजा को उनके द्वारा की गयी सहायता तथा उनकी स्वभावगत सादगी और सज्जनता के लिये ‘सेंट जॉर्ज ऑफ जेरुसलम’ की उपाधि प्रदान की (लौहण्डीगुडा तरंगिणी, प्रवीर चंद्र भंजदेव, 1963)। 

==========

Sunday, July 16, 2017

राखी का वह नेग (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 29)


रक्षाबन्धन पर बहुत सी कहानियाँ हमारे सम्मुख हैं। अधिकतम कहानियाँ पौराणिक आख्यान हैं तो कुछ भारत के गौरवशाली इतिहास में सद्भावना वाले पन्नों से भी जुड़ी हुई हैं। रक्षाबन्धन के पर्व की महत्ता जितनी अधिक है यदि इतिहास टटोला जाये तो उससे जुडे अनेक ऐसे प्रसंग और भी हैं, जिन्हें यदि दस्तावेजबद्ध किया जाये तो आने वाली पीढी को अपनी संस्कृति व अतीत को सही तरह से समझने में सहायता मिल सकती है। इसी तरह की एक कहानी सत्रहवीं सदी के बस्तर राज्य से जुडी हुई है। 

बस्तर के राजा राजपालदेव (1709 – 1721 ई.) की दो रानियाँ थी – रुद्रकुँवरि बघेलिन तथा रामकुँवरि चंदेलिन। रानी रुद्रकुँवरि से दलपत देव तथा प्रताप सिंह राजकुमारों का जन्म हुआ तथा रानी रामकुँवरि के पुत्र दखिन सिंह थे। रानी रामकुँवरि अपने पुत्र दखिन सिंह को अगला राजा बनाना चाहती थी किंतु बीमारी के कारण वे स्वर्ग सिधार गये। इसके एक वर्ष पश्चात ही (वर्ष 1721 ई.) राजा राजपालदेव का भी निधन हो गया। राजा के दोनों बेटे उनकी मौत के समय राजधानी से बाहर थे। रानी रामकुँवरि अभी भी षडयंत्र कर रही थीं। मौका पा कर बस्तर का सिंहासन रानी रामकुँवरि के भाई चंदेल कुमार (1721-1731 ई.) ने हथिया लिया। असली वारिस खदेड़ दिये गये। राजकुमार प्रतापसिंह रीवा चले गये और दलपतदेव ने जैपोर राज्य में शरण ली। जैपोर के राजा की सहायता से दलपतदेव ने कोटपाड़ परगना पर अधिकार कर लिया। अब वे बस्तर राज्य के दरबारियों से गुपचुप संबंध स्थापित करने लगे। एक वृहद योजना को आकार दिया जाने लगा और इसके प्रतिपादन का दिन निश्चित किया गया – रक्षाबन्धन। दलपतदेव ने मामा को संदेश भिजवाया कि उन्हें आधीनता स्वीकार्य है तथा वे राखी के दिन मिल कर गिले-शिकवे दूर करना चाहते हैं। संधि का प्रस्ताव पा कर मामा की प्रसन्नता का ठिकाना नहीं था। इस संधि से उसका शासन निष्कंटक हो जाने वाला था। वर्ष 1731 को रक्षाबन्धन के दिन दलपतदेव नेग ले कर दरबार में उपस्थित हुए। मामा-भाँजे का मिलन नाटकीय था। भाँजे ने सोचने का अवसर भी नहीं दिया। निकट आते ही अपनी तलवार खींच ली और सिंहासन पर बैठे मामा का वध कर दिया (दि ब्रेत, 1909)। इस तरह दस साल भटकने के बाद दलपत देव (1731-1774 ई.) ने अपना वास्तविक अधिकार रक्षाबन्धन के दिन ही प्राप्त किया था।

- राजीव रंजन प्रसाद

===========

शरणागत राजा और राजगुरु (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 28)


जीवन के अंतिम दिनों में राजा दिक्पालदेव, अपने पुत्र राजपालदेव (1709 – 1721 ई.) को राजसिंहासन पर बिठा कर सार्वजनिक जीवन से अलग हो गये थे। राजा राजपाल देव के समय के बस्तर को शक्तिशाली कहा जा सकता है। महंत घासी दास स्मारक, रायपुर रखे गये एक ताम्रपत्र में उल्लेख है कि “स्वस्ति श्री वसतरमहानगरे शुभस्थाने महाराजप्रौढ प्रताप चक्रवर्ती श्री राजपाल देव महाराज गोसाईं श्री मानकेश्वरी”। इस ताम्रपत्र से तीन मुख्य अर्थ निकाले जा सकते हैं पहला कि बस्तर की राजधानी में नगरीय व्यवस्था ने स्वरूप लेना आरम्भ कर दिया था, दूसरा कि राजपाल देव स्वयं चक्रवर्ती की उपाधि धारण करते थे तथा तीसरा यह कि राजा मणीकेश्वरी देवी के अनन्य उपासक एवं पुजारी थे। ये स्थितियाँ राज्य की सम्पन्नता का परिचायक हैं सम्भवत: इसी लिये उस दौर में दक्षिण राज्यों में से एक महाशक्ति गोलकुण्डा की दृष्टि बस्तर पर पड़ गयी। 

यह राजा राजपाल देव का ही शासन समय था गोलकुण्डा राज्य के कुतुबशाही वंश के सुलतान ने बस्तर पर हमला बोल दिया था। पुस्तक - लौहण्डीगुडा तरंगिणी (1963) जिसके लेखक महाराजा प्रवीर चंद्र भंजदेव हैं, में बस्तर के इतिहास की व्यापक झलकियाँ मिलती हैं। इसी कृति में उल्लेख है कि जब कुतुबशाही सेनाओं ने हमले किया उस समय राजा राजपाल देव, राजधानी में नहीं थे। खतरे को भाँप कर रानी रुद्रकुँवरि ने महल से भाग कर एक ब्राह्मण के घर शरण ली। इस समय वे गर्भवती थीं। शरण प्रदान करने वाले ब्राह्मण की कुटिया में ही उन्होंने एक पुत्र को जन्म दिया जिसे दलपत देव के नाम से जाना गया। लूट-खसोट के बाद आक्रमण करने वाले लौट गये। राजा राजपाल देव जब लौटे तो राजधानी की दशा देख कर स्तब्ध रह गये। यद्यपि उन्हें यह जान कर प्रसन्नता हुई कि रानी और राजकुमार सकुशल हैं। वह ब्राह्मण जिसने दोनों की रक्षा की थी, उसे राज्य का राजगुरु नियुक्त किया गया था। इस संदर्भ से एक और बात स्पष्ट है कि गोलकुण्डा से आयी सेनाओं ने आगे बढते हुए बस्तर अंचक की भौगोलिक परिस्थितियों को समझ लिया था तथा वे जान गये थे यदि देर तक इस क्षेत्र में वे रुके तो घेर लिये जायेंगे। उन्होंने केवल लूट-पाट कर वापस लौट जाना श्रेयस्कर समझा।  

==========

Saturday, July 15, 2017

पत्थर की गद्दी और जंगल की सत्ता (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 27)


छिन्दक नाग वंशीय शासकों को निर्णायक रूप से पराजित करने के पश्चात अन्नमदेव (1324 – 1369 ई.) के लिये अपने विजय अभियान को समाप्त कर स्थिरता प्राप्त करने का समय आ गया था। उन्होंने विजित भूभाग को को मिला कर उसे बस्तर राज्य का स्वरूप दिया। अन्नमदेव की मन:स्थिति की विवेचना करना आवश्यक है चूंकि वे वरंगल जैसे धनाड्य राज्य के राजकुमार थे जो तुगलकों के हाथो पतन के पश्चात इस क्षेत्र में पहुँचे थे। जिस वारंगल राज्य का खजाना हजारों ऊँटों मे लदवा कर दिल्ली भेजा गया हो वहाँ से घनघोर वनप्रांतर में पहुँचने के पश्चात अन्नमदेव की धन और भूमि एकत्रित करने की लालसा समाप्त हो गयी थी। उन्होने नागों को पराजित किया किंतु वे पैरी नदी के आगे नहीं बढे चूंकि शक्तिशाली शासकों को अपनी ओर  आकर्षित नहीं करना चाहते थे। उनका विजित राज्य चारो ओर से भौगोलिक रूप से सुरक्षित सीमा के भीतर अवस्थित था जिसमें बारह जमींदारियाँ, अढ़तालीस गढ़, बारह मुकासा, बत्तीस चालकी और चौरासी परगने थे। जिन प्रमुख गढ़ों या किलों पर अधिकार कर बस्तर राज्य की स्थापना की गयी वो हैं - मांधोता, राजपुर, गढ़-बोदरा, करेकोट, गढ़-चन्देला, चितरकोट, धाराउर, गढ़िया, मुण्डागढ़, माड़पालगढ़, केसरपाल, राजनगर, चीतापुर, किलेपाल, केशलूर, पाराकोट, रेकोट, हमीरगढ़, तीरथगढ़, छिन्दगढ़, कटेकल्याण, गढ़मीरी, कुँआकोण्ड़ा, दंतेवाड़ा, बाल-सूर्य गढ़, भैरमगढ़, कुटरू, गंगालूर, कोटापल्ली, पामेंड़, फोतकेल, भोपालपट्टनम, तारलागुड़ा, सुकमा, माकड़ी, उदयगढ़, चेरला, बंगरू, राकापल्ली, आलबाका, तारलागुड़ा, जगरगुण्ड़ा, उमरकोट, रायगड़ा, पोटगुड़ा, शालिनीगढ़, चुरचुंगागढ़, कोटपाड़.......। 

कांकेर से, साथ ही पराजित नाग राजाओं के पुन: संगठित होने के पश्चात उत्तरी क्षेत्रों की ओर से मिल रही चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए अन्नमदेव ने बड़े-डोंगर को नवगठित बस्तर राज्य की पहली राजधानी बनाया। यहाँ अन्नमदेव ने अपनी आराध्य देवी माँ दंतेश्वरी का मंदिर बनवाया तथा राजधानी में 147 तालाब भी खुदवाये थे। इसी मंदिर के सम्मुख एक पत्थर पर बैठ कर अपना उन्होंने अपना विधिवत राजतिलक सम्पन्न करवाया। स्वाभाविक है कि इस समय उनके पास न राजमहल रहा होगा न ही सिंहासन। डोंगर के इसी पत्थर पर राजतिलक एक परम्परा बन गयी जिसका निर्वाह अंतिम शासक प्रवीर तक निरंतर होता रहा। इस प्रथा को पखनागादी कहा जाता था। 

- राजीव रंजन प्रसाद

=========== 

Friday, July 14, 2017

सामाजिक दरारें और जान्तुरदास (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 26)


नलकालीन बस्तर (760 ई. से 1324 ई.) में कई ऐसे उदाहरण सामने आते हैं जहाँ कर्म आधारित वर्ण व्यवस्था से सामना होता है। नल शासक भवदत्त वर्मा का ऋद्धिपुर ताम्रपत्र जिसके खनक थे पद्दोपाध्याय ब्राह्मण के बेटे बोपदेव  (पद्दोपाध्यायपुत्रस्य पुत्रेण बोप्पदेवेन क्षतिमिदं, ई.आई - XIX)। यह स्पष्ट है कि कर्म आधारित समाज की जो चर्चा होती है यह उसका अप्रतिम उदाहरण है। उस दौर की विवेचना करने पर यह असामन्य लगता है कि बोप्पदेव जो कि ब्राह्मण वर्ण के थे, उन्होंने खनक का कार्य किया होगा। इसी कड़ी में पोड़ागढ़ अभिलेख जुड़ता है जहाँ एक दास वर्ण के व्यक्ति कवितायें करते, राजा के लिये शिलालेखों की पद्य रचना करते नजर आते हैं। नल शासन समय के सर्वाधिक गौरवशाली शासक रहे स्कन्दवर्मा के पोड़ागढ़ प्रस्तराभिलेख के रचयिता हैं – जान्तुर दास। स्पष्ट है कि जान्तुर माँ काली के लिये प्रयुक्त होने वाला शब्द है जबकि दास वर्ण का परिचायक है। यह दास दमित-शोषित नहीं अपितु राज्याश्रय प्राप्त एक कवि है। जान्तुर दास की रची पंक्तियों पर दृष्टि डालें तो वह रस, छंद-अलंकार युक्त अद्भुत काव्य रचना प्रतीत होती है। रचना की भाषा संस्कृत है। पोड़ागढ़ अभिलेख के रचयिता जांतुर दास ने प्रशस्ति की रचना तेरह पद्यों में की है। रचनाकार की विद्वत्ता का उदाहरण उसके शब्द प्रयोगों से ही मिल जाता है। जान्तुर दास लिखते हैं - आजेन विश्वरूपेण निगुणिन गुणौषिणा (निर्गुण होते हुए भी गुण की आकांक्षा करने वाला), यह पद्य विरोधाभास अलंकार का अनूठा उदाहरण प्रस्तुत करता है। यह छंद देखें तथा इसमें अनुप्रास अलंकार की छटा को महसूस करें – कृत्वा धर्म्मार्थ निम्याशमिदमात्म हितैषिणा। पादमूलं कृतं विष्णो: राज्ञा श्रीस्कन्दवर्म्मणा।। इसी तरह उनके काव्य में प्रयुक्त शांत रस का यह उद्धरण देखें – हरिणा जितं जयति जेध्यत्येषा गुणस्तुतिन्नर्हगुणस्तुतिन्नर्हि सा। ननु भगवानेव जयो जेतव्यं चाधिजेता च।। पोड़ागढ़ अभिलेख के बारहवें पद्य में इस शिलालेख के लेखक जान्तुरदास का नाम भी अंकित किया गया है। यह दर्शाता है कि मानुषिक विभेद जैसी स्थिति नाग कालीन बस्तर में समुपस्थित नहीं थी। पाँचवी सदी का यह प्रस्तराभिलेख सामाजिक दरारों में मिट्टी डालता हुआ प्रतीत होता है। यह अभिलेख मांग करता है कि लगातार जातिगत विद्वेषों में बाटे जाने के लिये दिये जा रहे उदाहरणों पर ठिठक कर पुनर्विवेचनायें की जायें। जान्तुर दास एक अल्पज्ञात कवि ही सही लेकिन यदि उन्हें समझा जाये तो वे आज व्याप्त अनेकों मिथकों को तोड़ने में सक्षम हैं। 

- राजीव रंजन प्रसाद

===========