Saturday, March 10, 2007

"निठारी के मासूम भूतों नें पूछा"

वो चाकलेट
जब नाखून भरे हाथ बन जाती होगी
तो मासूम छौने सी, नन्ही सी, गुडिया सी
छोटी सी बिल्ली के बच्चे सी बच्ची
सहसा सहम कर, रो कर, दुबक कर
कहती तो होगी 'बुरे वाले अंकल'
मेरे पास है और भी एसी टॉफी
मुझे दो ना माफी, जाने भी दो ना..
मुझे छोड दो, मेरी गुडिया भी लो ना
तितली भी है, मोर का पंख भी है
सभी तुमको दूंगी, कभी फिर न लूंगी
मुझे छोड दो, मुझको एसे न मारो
ये कपडे नये हैं, इन्हें मत उतारो
मैं मम्मी से, पापा से सबसे कहूँगी
मगर छोड दोगे तो चुप ही रहूंगी..

क्या आसमा तब भी पत्थर ही होगा
क्यों इस धरा के न टुकडे हुए फिर?
पिशाचों नें जब उस गिलहरी को नोचा
तो क्यों शेष का फन न काँपा?
न फूटे कहीं ज्वाल के मुख भला क्यों?
गर्दन के, हाँथों के, पैरों के टुकडे
नाले में जब वो बहा कर हटा था
तो ए नीली छतरी लगा कर खुदा बन
बैठा है तू, तेरा कुछ भी घटा था
तू मेरी दृष्टि में सबसे भिखारी
दिया क्या धरा को ये तूनें 'निठारी'?

ये कैसी है दुनियाँ, कहाँ आ गये हम?
कहाँ बढ गये हम, कि क्या पा गये हम?
न आशा की बातें करो कामचोरों
'लुक्क्ड', 'उचक्को', 'युवा', तुम पे थू है
तुम्ही से तो उठती हर ओर बू है
अरे 'कर्णधारो' मरो, चुल्लुओं भर पानीं में डूबो
वेलेंटाईनों के पहलू में दुबको, तरक्की करो तुम
शरम को छुपा दो, बहनों को अमरीकी कपडे दिला दो
बढो शान से, चाँद पर घर बनाओ
नहीं कोई तुमसे ये पूछेगा कायर
कि चेहरे में इतना सफेदा लगा कर
अपना ही चेहरा छुपा क्यों रहे हो
उठा कर के बाईक 'पतुरिया' घुमाओ
समाचार देखो तो चैनल बदल दो
मगर एक दिन पाँव के नीचे धरती
अगर साथ छोडेगी तो क्या करोगे?
इतिहास पूछेगा तो क्या गडोगे?
तुम्हारी ही पहचान है ये पिटारी
उसी देश के हो है जिसमें निठारी...

भैया थे, पापा थे, नाना थे, चाचा थे
कुछ भी नहीं थे तो क्या कुछ नहीं थे
बदले हुए दौर में हर तरफ हम
पिसे हैं तो क्या आपको अजनबी थे?
नहीं सुन सके क्यों 'बचाओ' 'बचाओ'
निठारी के मासूम भूतों नें पूछा
अरे बेशरम कर्णधारों बताओ..

*** राजीव रंजन प्रसाद
१३.०२.२००७

5 comments:

yogesh samdarshi said...

राजीव भाई,
निठारी पर वास्तव में हर सवेदी कवि को कुछ न कुछ जरूर कहना चाहिये था,
इस बार तो बस इसलिये ही कहना जरूरी था, कि दुनिया में लोग है, बचे हैं लोग बुरों पर थूकने वाले भी बचे हैं अभी मरे नही हैं गाजियाबाद मे उन आतताईयों को जब वकीलों ने कडी सुरक्षा में पीटा था तब शायाद आपकी पंक्तियों की अंतर्ध्वनि काम कर रही थी.

नाले में जब वो बहा कर हटा था
तो ए नीली छतरी लगा कर खुदा बन
बैठा है तू, तेरा कुछ भी घटा था
तू मेरी दृष्टि में सबसे भिखारी
दिया क्या धरा को ये तूनें 'निठारी'?

जब कवि दुखी होता है तो भगवान को भी नहीं बख्श्ता.. बहुत खूब अभीव्यक्ति है...

अरे 'कर्णधारो' मरो, चुल्लुओं भर पानीं में डूबो
वेलेंटाईनों के पहलू में दुबको, तरक्की करो तुम
शरम को छुपा दो, बहनों को अमरीकी कपडे दिला दो
बढो शान से, चाँद पर घर बनाओ
नहीं कोई तुमसे ये पूछेगा कायर
कि चेहरे में इतना सफेदा लगा कर
अपना ही चेहरा छुपा क्यों रहे हो
उठा कर के बाईक 'पतुरिया' घुमाओ
समाचार देखो तो चैनल बदल दो
मगर एक दिन पाँव के नीचे धरती
अगर साथ छोडेगी तो क्या करोगे?
इतिहास पूछेगा तो क्या गडोगे?
तुम्हारी ही पहचान है ये पिटारी
उसी देश के हो है जिसमें निठारी...

वाह! कहूं या आह!
बस उठती है एक कराह,
परंतु कुम्हलाने से क्या,
चलो ढूंढें कुछ राह.

कुछ राह जो सबक दे
खूंन खौलादे युवा का.
चलो उस जगह चलके मांगे
जहां से कोई असर हो दुआ का.

बधाई मित्र बधाई!

राजीव जी, मैं आजकल और्कुट पर नही जा पा रहा हूं गूगल पर भी नहीं आप मेरे निम्न पतों पर मेल करें ताकी मेल के जरिये निरंतर मेल हो सके,

स्वास्थय अब कैसा है?

मेरे ब्लाग पर भी जाते रहें
कैसा है हमको बतात रहें,

यदि प्यार हमसे है आपको भी
हमको अच्छा लगे है जताते रहें?

yogesh samdarshi said...

ysamdarshi@yahoomail.co.in, ysamdarshi@hotmail.com

देवेश वशिष्ठ ' खबरी ' said...

राजीव भाई,
सच कहूँ तो अब तक कविताऐं पढी थी।
आपके ब्लोग में तो संवेदनायें भरी पडी हैं, निठरी के नाले से लेकर उस बाल मजदूर के मन तक की।

"तितली भी है, मोर का पंख भी है
सभी तुमको दूंगी, कभी फिर न लूंगी
मुझे छोड दो, मुझको एसे न मारो
ये कपडे नये हैं, इन्हें मत उतारो"

सच मैं संवेदनाऔं के खिलाडी और बेहद अच्छे इंसान लगते हैं आप।
और भी पढना चाहता हूँ।

foundation for comman man said...

To
Chairperson
National Human Rights Commission of India
Faridkot House, Copernicus Marg
New Delhi -110001
INDIA
Fax: +91 11 2334 0016
Email: chairnhrc@nic.in


lsok esa] fnaukd 3-4-2007
Jheku pS;jeSu egksn;]
jk"Vªh; ekuo vf/kdkj vk;ksx]
QjhndksV gkMl] dkWijfuDl ekxZ]
fnYyh&1
fo"k;%&lEiw.kZ Hkkjr ls vc rd ykirk gq;s yksxksa ds ckjs esa dksbZ Bksl dk;kZokgh u gksus ds lanHkZ esa A
ekU;oj]
fuosnu ;g gS fd eSa izgykn dqekj vxzoky] v/;{k QkmaMs’ku Qkj dkWeu eSu ckj&ckj Hkkjr ls ykirk gq;s yksxksa ds ckjs esa eklwe cPpksa] efgykvksa dh ryk’k ds ckjs esa vkokt mBkrk jgk gwa vkSj lEcfU/kr foHkkxksa dks fy[krk jgk gwa A igys Hkh 31&12&2007 dks laln ekxZ ij izn’kZu fd;k o jk"Vªifr th] iz/kku ea=h] x`g ea=h o ,u ,p vkj lh o dbZ vU; laLFkk dks Hkh fuBkjh dkaM dk fojks/k ntZ fd;k og Hkkjr ls ykirk gq;s yksxksa ds ckjs esa xqgkj yxkbZ A og fnaukd 8-1-2007 ls 24 ?kUVs dk ?kjuk laln ekxZ ij fn;k tks fd vkt rd tkjh gS A ysfdu vkt rd dksbZ lquokbZ ugha gqbZ gS A tcfd bl nkSjku esjB dk lhfj;y fdyj dk.M og dbZ vU; dk.M Hkh lkeus vk;s gSA ysfdu vkt rd dksbZ lquokbZ ugha gqbZ gS A vc tcfd dbZ dkUM lkeus vk pqds gSa rks ykirk gq;s eklwe cPps] efgyk vkfn ds ekW&cki] dk gkSlyk tokc ns x;k gS A vkSj mUgsa ;g ckr lrkus yxs gSa fd dgha muds eklwe Hkh blh [kwuh [ksy ds f’kdkj u gks x;s gksa A ;g yksx iqfyl o vU; lEcfU/kr vf/kdkfj;ksa ls Hkh feys ijUrq vk’oklu ds vykok dqN ugha feyk A eSusa ,d ckj fQj vHkkxs ekrk firk dh xqgkj vki rd igqapkus dk iz;kl fd;k gS fd vkids lg;ksx ls muds fcNMs eklwe cPps mUgsa fey tk;s ;k mudk irk yxk;k tk lds] ?kjus ij cSBs&cSBs eSa Hkh Hkw[kejh dh dxkj ij igqap pqdk gwa A rks bu vHkkxs ekWa&cki dk D;k gky gqvk gksxk A esjk vkils vkxzg gS fd bu eklwe cPpksa ds xk;c gksus esa dgha fuBkjh o lhfj;y dk.M ds fdUgha uj fi’kkpksa dk gkFk u gks blfy;s vkils vkxzg gS fd bu eklweksa dh ryk’k djkus ds fy;s lh ch vkbZ ls tkap djkus dh d`ik djsa og tks nks"kh idMs x;s gSa mUgsa l[r ls l[r ltk nh tk;s A eq>s vk’kk gS fd vki bu eklweksa ds ifjokjksa ds vkalw jksdus esa leFkZ gksxs og budk nq[k nwj djus ds fy;s lHkh mfpr dne mBk;sxs aA
/kU;okn]
Hkonh;]
blesa ls dqN ifjokjksa ds C;kSjk lkFk esa layXu gS A
izfrfyfi%&
1- x`g ea=h Hkkjr ljdkj izgykn dqekj vxzoky
2- iz/kku ea=h vLFkkbZ irk & /kjuk LFky]laln ekxZ
3- jk"Vªifr LFkkbZ irk & ch&58/149] xq: ukud iqjk
4- iqfyl vk;qDr] fnYyh y{eh uxj] fnYyh&110092
5- iqfyl mi&vk;qDr] ubZ fnYyh
6- ehfM;k

foundation for comman man said...

To
Chairperson
National Human Rights Commission of India
Faridkot House, Copernicus Marg
New Delhi -110001
INDIA
Fax: +91 11 2334 0016
Email: chairnhrc@nic.in


lsok esa] fnaukd 3-4-2007
Jheku pS;jeSu egksn;]
jk"Vªh; ekuo vf/kdkj vk;ksx]
QjhndksV gkMl] dkWijfuDl ekxZ]
fnYyh&1
fo"k;%&lEiw.kZ Hkkjr ls vc rd ykirk gq;s yksxksa ds ckjs esa dksbZ Bksl dk;kZokgh u gksus ds lanHkZ esa A
ekU;oj]
fuosnu ;g gS fd eSa izgykn dqekj vxzoky] v/;{k QkmaMs’ku Qkj dkWeu eSu ckj&ckj Hkkjr ls ykirk gq;s yksxksa ds ckjs esa eklwe cPpksa] efgykvksa dh ryk’k ds ckjs esa vkokt mBkrk jgk gwa vkSj lEcfU/kr foHkkxksa dks fy[krk jgk gwa A igys Hkh 31&12&2007 dks laln ekxZ ij izn’kZu fd;k o jk"Vªifr th] iz/kku ea=h] x`g ea=h o ,u ,p vkj lh o dbZ vU; laLFkk dks Hkh fuBkjh dkaM dk fojks/k ntZ fd;k og Hkkjr ls ykirk gq;s yksxksa ds ckjs esa xqgkj yxkbZ A og fnaukd 8-1-2007 ls 24 ?kUVs dk ?kjuk laln ekxZ ij fn;k tks fd vkt rd tkjh gS A ysfdu vkt rd dksbZ lquokbZ ugha gqbZ gS A tcfd bl nkSjku esjB dk lhfj;y fdyj dk.M og dbZ vU; dk.M Hkh lkeus vk;s gSA ysfdu vkt rd dksbZ lquokbZ ugha gqbZ gS A vc tcfd dbZ dkUM lkeus vk pqds gSa rks ykirk gq;s eklwe cPps] efgyk vkfn ds ekW&cki] dk gkSlyk tokc ns x;k gS A vkSj mUgsa ;g ckr lrkus yxs gSa fd dgha muds eklwe Hkh blh [kwuh [ksy ds f’kdkj u gks x;s gksa A ;g yksx iqfyl o vU; lEcfU/kr vf/kdkfj;ksa ls Hkh feys ijUrq vk’oklu ds vykok dqN ugha feyk A eSusa ,d ckj fQj vHkkxs ekrk firk dh xqgkj vki rd igqapkus dk iz;kl fd;k gS fd vkids lg;ksx ls muds fcNMs eklwe cPps mUgsa fey tk;s ;k mudk irk yxk;k tk lds] ?kjus ij cSBs&cSBs eSa Hkh Hkw[kejh dh dxkj ij igqap pqdk gwa A rks bu vHkkxs ekWa&cki dk D;k gky gqvk gksxk A esjk vkils vkxzg gS fd bu eklwe cPpksa ds xk;c gksus esa dgha fuBkjh o lhfj;y dk.M ds fdUgha uj fi’kkpksa dk gkFk u gks blfy;s vkils vkxzg gS fd bu eklweksa dh ryk’k djkus ds fy;s lh ch vkbZ ls tkap djkus dh d`ik djsa og tks nks"kh idMs x;s gSa mUgsa l[r ls l[r ltk nh tk;s A eq>s vk’kk gS fd vki bu eklweksa ds ifjokjksa ds vkalw jksdus esa leFkZ gksxs og budk nq[k nwj djus ds fy;s lHkh mfpr dne mBk;sxs aA
/kU;okn]
Hkonh;]
blesa ls dqN ifjokjksa ds C;kSjk lkFk esa layXu gS A
izfrfyfi%&
1- x`g ea=h Hkkjr ljdkj izgykn dqekj vxzoky
2- iz/kku ea=h vLFkkbZ irk & /kjuk LFky]laln ekxZ
3- jk"Vªifr LFkkbZ irk & ch&58/149] xq: ukud iqjk
4- iqfyl vk;qDr] fnYyh y{eh uxj] fnYyh&110092
5- iqfyl mi&vk;qDr] ubZ fnYyh
6- ehfM;k